Sulphuric acid क्या हैं ? जाने इसके बारे में

Sulphuric acid क्या हैं ? जाने इसके बारे में

Sulphuric acid in hindi


Sulphuric acid  (सल्फ्यूरिक अम्ल )  सबसे अधिक उपयोगी औधोगिक रसायनों में से है । यह सल्फर , ऑक्सीजन तथा हाइड्रोजन  के अणु के जुुड़ने  से बनता है।

इसका chemical formula (रासायनिक सूत्र ) H₂SO₄ होता है । 

 Sulphuric acid को रसायनों का राजा  कहा जाता हैं।


विषय सूची 

  सल्फ्यूरिक अम्ल के भौतिक गुण

सल्फ्यूरिक अम्ल बनाने की विधि

सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग

सल्फ्यूरिक अम्ल के रासायनिक गुण


Physical properties of Sulphuric acid - सल्फ्यूरिक अम्ल के भौतिक गुण

यह एक रंगहीन , गाढ़ा तेलीय प्रकृति का द्रव है ।

यह जल में घुलनशील होता हैं।

इसका घनत्व (density)1.84 ग्राम / सेमी^3 होता है ।इसका गलनांक 10°C तथा क्वथनांक 337°C होता है अर्थात इस ताप पर यह उबलने लगता है ।
सल्फुरिक अम्ल को अगर जल में डाला जाए तो बहुत अधिक मात्रा में ऊर्जा निकलती हैं ।

मोलर द्रव्यमान = 98.079 ग्राम/मोल


Salfuric acid को बनाने की विधि-

सामान्य विधि -

1. इसका निर्माण सल्फर ट्राईओक्साइड तथा जल की अभिक्रिया द्वारा किया जा सकता है।

S + O2    SO ₂ 

4FeS2  +H2O   2Fe₂O₃ + 8SO ₂ 


2. हाइड्रोजन परोक्साइड की अभिक्रिया सल्फर डाइ ऑक्साइड से करने पर भी सल्फ्यूरिक अम्ल प्राप्त होता है।
H
2
O + SO ₂    H₂SO₄ 


औद्योगिक विधि -

Salphurik acid सबसे अधिक उपयोगी रसायनों में से है। 
ओद्योगिक  रूप से  इसका निर्माण तीन प्रकर्मो में  किया जाता हैं , इसे संपर्क विधि ( contact process) जाता है -

1. सल्फर तथा सल्फाइड अयस्क की सहायता से SO ₂  का
निर्माण किया जाता है।

इस विधि में पहले सल्फर को जलाकर सल्फर डाइ ऑक्साइड का निर्माण किया जाता है। सल्फर डाइ ऑक्साइड को धूल कणों से अलग कर शुद्ध कर लिया जाता है।

2.  SO ₂  का SO₃ में रूपांतरण

प्राप्त SO ₂   का वेनेडियम पेंटाऑक्साइड की सहायता से ऑक्सीकरण कर  सल्फर ट्राई ऑक्साइड बना लिया जाता है।
इस अभिक्रिया में आयतन में कमी आती हैं ।

इसलिए सल्फ्यूरिक अम्ल के निर्माण में जो उपकरण काम में लिया जाता है उसमे तापमान 720K तथा दाब 2 bar रखा जाता है ।

3. ओलीयम का निर्माण 

पिछले प्रक्रम से प्राप्त सल्फर ट्राई ऑक्साइड को जल युक्त 
H₂SO₄  से क्रिया ( जिसमें 95-96% H₂SO₄  तथा 3-4% जल होता है ) करवाई जाती हैं ।

सल्फर ट्राई ऑक्साइड जल में घुलनशील नहीं होता है ।इस अभिक्रिया के परिणाम स्वरूप ओलियम प्राप्त होता है।

सांद्र सल्फ्यूरिक अम्ल प्राप्त करने के लिए ओलियम की जल से क्रिया कराई जाती हैं।

H2SO4 + SO3(g) → H2S2O7(l)
H2S2O7(l) + H2O(l) → 2H2SO4

यह भी पढ़े 

Sulphuric acid uses ( सल्फ्यूरिक अम्ल के उपयोग)

1. इसका उपयोग उर्वरकों के निर्माण में किया जाता हैं ।

2. इसका उपयोग विस्फोटकों पिक्रिक अम्ल तथा डायनामाइट बनाने में होता है।

3. इसका उपयोग सिसा संचायक सेल बनाने में भी किया जाता हैं।
4.  इसका उपयोग प्रयोगशाला में अभिकर्मक के रूप में भी    किया जाता हैं।
5. इसका उपयोग पैंट व रंजक बनाने में किया जाता है।

6. इसका उपयोग पेट्रोल के शुद्धिकरण में सल्फर , तार जैसे     योगिकों को हटाने में किया जाता है।

7. इसका उपयोग डिटर्जेंट बनाने में होता है।

8. यह धातुओं की सतह को साफ करने में भी काम आता है।

9. कृत्रिम रेशों के निर्माण में

10. औषधीयो के निर्माण में 


Chemical properties of Sulphuric acid 

सल्प्यूरिक अम्ल के रासायनिक गुण -


1. जल को निकालने का गुण

सल्फ्यूरिक अम्ल जल स्नेही प्रकृति का होता है ।इसलिए यह एक प्रबल निर्जलीकारक के रूप में प्रयोग किया जाता है।

यदि सल्फ्यूरिक अम्ल त्वचा पर गिर जाए तो त्वचा जल जाती है क्योंकि यह त्वचा से जल को निकाल देता है।

2. Reaction with matels (धातुओं के साथ अभिक्रिया)

जब सल्फ्यूरिक अम्ल धातुओं के साथ अभिक्रिया करता हैं तो हाइड्रोजन गैस बाहर निकलती हैं ।

Zn +  H₂SO₄   ZnSO₄ + H₂

Mg + H₂SO₄  MgSO₄ + H₂


3. Salts  के साथ अभिक्रिया

सल्फ्यूरिक अम्ल प्रबल ऑक्सिकारक होता है ।इसकी प्रकृति काम घुलनशील होती हैं ।
यह लवणों जैसे कार्बोनेट , सल्फाइड को अपघटित कर सकता है ।

Salfuric acid के नुकसान (toxic effects )

सल्फ्यूरिक अम्ल संक्षारीय प्रकृति का होता हैं , यह विस्फोटक भी हो सकता है। यह त्वचा को गंभीर रूप से जला सकता है । आंखो में गिरने पर अंधेपन का कारण बन सकता है।

इसकी भाप नाक और गले में जलन पैदा हो सकती है ।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां